शुक्रवार, 20 अप्रैल 2012

कुछ दिलचस्प स्थितियां और परिस्थितियां --



भाषा में उच्चारण का समावेश --अक्सर बहुत गड़बड़ हो जाती है .




विज्ञापन हो तो ऐसा --हींग लगे ना फिटकरी .




ऐसे आइडिया इन्हीं को आ सकते हैं . लेकिन बेचारों को मौका ही नहीं मिला ---



वाट ऐ हेफ्टी डिसकाउंट !




बहुत गोलमाल है भाई !

अद्भुत , अविश्वसनीय , नज़ारा --



चाँद पर अम्मा का ढाबा --



बिग आइडिया सर जी !



अंतिम यात्रा से पहले अंतिम पेग लगा लूँ तो चलूँ ---


नोट : सभी चित्र इ मेल से प्राप्त .


15 टिप्‍पणियां:

  1. यह चित्र प्रदर्शनी अद्भुत रही ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  3. न्यूरॉन्स पोषित हुये...दो इंच के होठ साढ़े तीन इंच के हो गये :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. जीवन का दर्शन अगर कहीं है,तो वह आखिरी तस्वीर में ही है। जब मर ही गए,तो कुछ और बचा नहीं देखने को। इसलिए,अगर फिर से जीवन मिला,तो कोई डर नहीं मरने का।

    उत्तर देंहटाएं
  5. हंसी के गोल गप्पे लाये हैं आप .

    उत्तर देंहटाएं
  6. lol
    बहुत अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं