बुधवार, 9 नवंबर 2011

लेह लद्दाख की सैर ---

7 टिप्‍पणियां:

  1. चित्र सब कुछ स्पष्ट कहते हुये।

    उत्तर देंहटाएं
  2. ये फ़ोटो आपके कैमरे के है या आपके खीचे हुए है? क्योंकि आपका कैमरा भी आपसे कम घुमक्कड नहीं है, थोडा सा लिख भी दिया होता, ताकि इसे पढकर कुछ जानकारी भी प्राप्त होती!

    उत्तर देंहटाएं
  3. चित्र देखकर ही मानो अपनी यात्रा हो गयी, बहुत सुन्दर!

    उत्तर देंहटाएं
  4. सही कहा संदीप जी । अभी तो कैमरा ही घूम कर आया है । अगले साल हम भी कोशिश करते हैं , फिर वर्णन कर पाएंगे ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. 1981- 1982 मे दो बार कारगिल जा कर भी हम लेह नहीं गए थे,आपने घर बैठे-बैठे ही लेह की सैर करा दी। चित्रों मे तो अच्छा लगा।

    उत्तर देंहटाएं
  6. एक अलग सी कहानी कहते हैं ये चित्र । ये घुमावदार सडकें ये भूरे पहाड और निचली सतहों की थोडी हरितिमा ।

    उत्तर देंहटाएं