रविवार, 21 फ़रवरी 2010

दिल्ली की सैर ---गार्डन ऑफ़ फाइव सेंसिज ---

दिल्ली में महरौली से बदरपुर जाने वाली सड़क पर , क़ुतुब से एक किलोमीटर दूर दक्षिण की तरफ बना है --गार्डन ऑफ़ फाइव सेंसेज

प्रवेश करते ही --

हरियाली --


हरियाली के साथ फूल भी ---



हरियाली के बीच एक पेड़ जो वंचित रह गया ---



पेड़ों के बीच फव्वारा ---



थोडा जंगल नुमा भी ---



यहाँ बैठना मना है --पता नहीं क्यों ---



शांति , शांति , शांति ---



घुमावदार सीढियाँ ---


जंगल में बनी मूर्तियाँ ---


नोट : दिल्ली टूरिज्म की तरफ से आज शाम ६ बजे तक यहाँ गार्डन टूरिस्म फेस्टिवल का आयोजन किया गया है। अगर अवसर मिले तो देखिये ज़रूर। बसंत ऋतू में फूलों की सैर कर के आनंद आ जायेगा।
लेकिन यदि न भी जा पायें तो चिंता मत करिया , हम आपको सैर करा देंगे कल अंतर्मंथन पर ।

20 टिप्‍पणियां:

  1. वाह बेहतरीन फ़ोटो, हम तो इस ब्लॉग पर आज आ पाये।

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह क्या दृश्य लिये है आपने
    वंचित क्या सिंचित नहीं था.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर चित्र हैं....आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह डाक्टर साहब कमाल के फोटो हैं .... मैने तो पहले भी लिखा था आपकी फोटोग्राफी कमाल की है ... धीरे धीरे ये बात साबित होती जा रही है ... ये जगह भी लाजवाब लगती है अगले ट्रिप में देखनी पढ़ेगी ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह क्या दिल्ली है ऐसे ही ये दिल वालों की नही बनी। बहुत सुन्दर तस्वीरें हैं धन्यवाद्

    उत्तर देंहटाएं
  6. आनन्द आ गया चित्रों को देखकर! दिल्ली तो कई बार गया हूँ किन्तु हमेशा हड़बड़ी रही। हड़बड़ी में ये सब कहाँ से देख पाता। आपने दिखाया। धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुंदर लगा दिल्ली को आप की नजरो से देखना, सभी चित्र एक से बढ कर एक.कल की पोस्ट अंतर्मंथन पर भी इंतजार रहेगा.
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  8. agar buraa naa maane to ek baat kahu--
    "aap apne doosre blog main to bahut post karte hain, lekin is blog main bilkul nahi. ye kyon??? us blog ke saath-saath aapko iss blog main bhi kuch posts karne chaahiye. aapke do betae (blogs) hain, ek kaa jyada or doosre ka kam karnaa saraasar galat hain. aapko apne dono baeto (blogs) ke saath samaan vyavahaar (posts) karnaa chaahiye."
    thanks.
    WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

    उत्तर देंहटाएं
  9. सारे चित्र एक से बढ कर एक...बहुत बहुत शुक्रिया आपका इनके लिए
    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  10. Bahut khoobsoorst chitr hain..hariyali ke saath jo do nishparn pedon ke chitr hai,unhon nebhee man moh liya...feel like converting those in my fiber art!They r so ethereal!

    उत्तर देंहटाएं
  11. हमने भी सैर कर ली..बड़ा मजा आया .
    ----------------------

    "पाखी की दुनिया" में इस बार पोर्टब्लेयर के खूबसूरत म्यूजियम की सैर

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह ये इतना सुंदर है? आस पास की भीड़ व धुआं धक्कड़ के चलते हमारी तो कभी हिम्मत ही नहीं हुई कि अंदर भी जा सकते. इसके आसपास का बाहर वाला इलाका तो घोर घना व इतना गंदा है कि क्या कहूं.

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुन्दर चित्र हैं...धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  14. वैसे आपके चि‍त्रसंग्रह का शौक हमें दि‍ल्‍ली के नजारों से यहां घर बैठे ही मालामाल कर देता है, आभार दराल जी।

    उत्तर देंहटाएं
  15. मेरे ब्लॉग पर आपके आगमन के लिए धन्यावाद .आपके ब्लॉग पर भी मै पहली बार आया हूँ और ब्लॉग पढ़कर मजा आ गया . आपके तीनो ब्लॉग बहुत ही अच्छे है . चित्रकथा तो दिल्ली की पुरी कहानी ही कहती है , दिल्ली का हर रंग इसमें समाया हुआ है . गार्डेन ऑफ़ फाइव सेंसेस, मै अभी तक नहीं गया हूँ ,पर अब जरुर जाउंगा . चित्रकथा के अगले अंक का अब हमेशा इन्तेजार रहेगा .

    उत्तर देंहटाएं
  16. Delhi kee sair kee aap ke chitron ke sath...bahut maza aya ....
    "Haryalee main ek paed (tree) jo paton se vanchit reha...shayad vo deciduous tree hoga...aur bakee trees evergreen hai...yeh kudrat ka neeyam hai...vo winters main en trees ko paton se vanchit kar detee hai?
    Es ke peeche bhee Science hai!

    उत्तर देंहटाएं