शुक्रवार, 18 फ़रवरी 2011

एक दिल्ली ऐसी भी --मोबाईल कैमरे से ....

पिछले महीने पल्स पोलिओ अभियान के दौरान दिल्ली के एक ऐसे क्षेत्र में जाकर निरीक्षण करना पड़ा जहाँ आम तौर पर कभी जाना नहीं होता ।
प्रस्तुत हैं इस क्षेत्र की कुछ तस्वीरें जो मोबाईल कैमरे से ली गई हैं ।


गली में एक पब्लिक स्कूल ।



साईकल और साईकल रिक्शा --मुख्य वाहन ।


लेकिन स्कूल बसें और कारें भी , भले ही गंदगी के बीच ।



खुली नालियां --यहाँ अभी भी सीवर लाइन नहीं है।




एक रिक्शा पर पूरी की पूरी दूकान आ जाती है ।




देसी ट्रांसपोर्ट --ट्रेक्टर ।


बिजली तो यहाँ भी है लेकिन शायद साझली ।




और यह ओपन एयर हेयर कटिंग सैलून । क्या हुआ ग़र नाली के ऊपर है । बाल तो यहाँ भी फैशन के ही काटे जाते हैं ।

12 टिप्‍पणियां:

  1. ये मेरा इंडिया आई लव माई इंडिया...
    शानदार फोटो खींचे हैं आपने...बधाई.

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  2. डॉ साहेब, ऐसी दिल्ली मैने देखी हे ---शुकुर बस्ती ! जहाँ कभी हमारे रिश्तेदार रहते थे -- सचित्र कथा |

    उत्तर देंहटाएं
  3. चलिये आप ने भी हमारी दिल्ली के दर्शन कर लिये, असली भारत यही हे जी

    उत्तर देंहटाएं
  4. ये हुई ना कोई बात,
    असली इंडिया भदेस इंडियन यही हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. जबरदस्त तस्वीरें ले आये आप...

    उत्तर देंहटाएं
  6. ट्रेक्टर तो हमने चलाया भी बहुत है, ट्रॉली के साथ चलाना हालांकि बहुत मुश्किल होता है।

    शानदार !

    उत्तर देंहटाएं
  7. भारत विविधताओं का देश है .दिल्ली उसकी राजधानी है जिसकी विविधताएँ आपने दिखा दीं.

    उत्तर देंहटाएं
  8. दिल्ली के दर्शन! असली भारत यही हे जी|

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपके मोबाइल का कैमरा अच्‍छा है दराल जी पि‍क्‍चर्स क्‍वालि‍टी अच्‍छी आई है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. sir, shining india me real bharat ki tasveerw hain ye.....

    उत्तर देंहटाएं
  11. ये ही तो असली शहर है,
    जहां नेता रहते है, वो तो छलावा है, आम भारतीयों के लिये,

    उत्तर देंहटाएं