शुक्रवार, 25 सितंबर 2009

एलियंस



कहीं एलियंस धरती पर तो नहीं उतर आये ???

5 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर तस्वीर.. कल्पना के क्या कहने..
    हैपी ब्लॉगिंग

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही ख़ूबसूरत तस्वीर ली है आपने! विजयादशमी की हार्दिक शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  3. bahबुत सुन्दर तस्वीर है बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  4. क्षमा चाहता हूँ, मेरी बड़ी लड़की को भी शिकायत रहती है कि मैं 'सीधा' जवाब क्यूँ नहीं देता हूँ (उसकी १० वर्षीय लड़की की ही भांति!)...वो कोरिया होते हुए कनाडा (जहाँ की सुंदर फोटो आपने भी अन्यत्र दी हैं) और अब अमेरिका में रहते हैं...

    मैं ब्राह्मण परिवार में जरूर पैदा हुआ, किन्तु में 'लकीर का फ़कीर' नहीं हूँ, ऐसा में कह सकता हूँ...इस कारण मैंने गहराई में जाने की कोशिश की है (या लेजाया गया हूँ!), और अपनी प्राचीन कहानियों को वर्तमान उपलब्ध सूचना से मिलान करने की कोशिश करता हूँ...इस प्रकार मैं सोचता हूँ कि मैं समझ सका हूँ कि क्यूँ सौर मंडल के नौ ग्रहों, सूर्य से शनि तक, के सार से मनुष्य के शरीर की संरचना माना प्राचीन योगियों ने...और इस पृथ्वी ग्रह पर हमारे अस्थायी जीवन को हमारे ( ) होने के कारण, यानि दूसरे ग्रह आदि से आने के कारण...किन्तु यह कठिन है कहना कि भगवान् अपने सर्व श्रेष्ट भूतों में क्या ढूंढ रहा है, जिसे प्राचीन ज्ञानी भी नहीं बता पाए...शायद वो उसके अपने आरंभ/ आरंभिक स्वरुप, यानि अपनी माँ को ढूंढ रहा हो. प्राचीन योगी थक कर उसे स्वयम्भू बता गए...

    सुंदर तस्वीरों के लिए धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं