शनिवार, 25 जुलाई 2009

मेरी कनाडा यात्रा से --


चलो शहर ( दाउन्ताउन)की और


सी अन टावर से एक दृश्य झील ऊपर से


शहर का एक इलाका, लेकिन भीड़ कहाँ है रात में ये हरियाली और ये रास्ता , पर चलने वाला कोई नहीं



जंगल से होकर

गाँव के खेत
गोरे तेरा गाँव बड़ा प्यारा

2 टिप्‍पणियां:

  1. Wow! beautiful Pictures.Ye sare photograps apne liye...ap to achhe Photographer bhi hain.


    पाखी के ब्लॉग पर इस बार देखें महाकालेश्वर, उज्जैन में पाखी !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. Daral ji,
    "chitrakatha" is really reflects your inner beauty of your heart, way of thinking and vision towards life.It really refeshed me.dil se Badhai!!!

    उत्तर देंहटाएं